श्री नृसिंह पुराण एंव पूजन फल: Narsingh Puran

Narsingh Puran

Narsingh Bhagwan दया के सागर है। श्री नृसिंह पुराण को एक बार पढ़ने से पाप नाश १०० बार पढ़ने से समस्त मनोरथ सिद्ध होते हैं। इस कलि काल में जहां उपासक हनुमान जी. भैरव जी, काली माता की उपासना करते हैं। ठीक उसी तरह नृसिंह …

Read more

श्री ढांढ़ण सती जी की आरती ! रानी सती दादी जी

श्री ढांढ़ण सती

ढांढ़ण धाम(श्री ढांढ़ण सती/रानी सती दादी जी ) राजस्थान राज्य के सीकर जिले की फतेहपुर की तहसील में स्थित है। यह स्थान दो बहनों के अपने भाई के प्रति प्रेम और स्नेह का प्रतीक है। टीडा और गेला नाम की बहनें अपने भाई भोलेनाथजी के …

Read more

वेद माता गायत्री एंव गायत्री मंत्र लेखन की महिमा ! Gayatri Mantra Lekhan

Gayatri mantra

गायत्री वेदों की माता है, इसी से संपूर्ण वेद आदि का ज्ञान प्रकट हुआ है। इसलिए गायत्री को वेद माता कहा गया है ! समस्त विश्व की जननी और पालन करने वाली गायत्री की जो आराधना करता है, वह समस्त ज्ञान अधिकारी बन जाता है …

Read more

कुंडली में कमजोर सूर्य को मजबूत करता है विष्णु सहस्रनाम| Vishnu Sahasranamam

Vishnu Sahasranamam

ज्योतिषी के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य कमजोर है तो इसे(Vishnu Sahasranamam ) पढ़ने से सूर्य मजबूत होता है। विष्णु सहस्त्रनाम सूर्य को मजबूत करता है।  विष्णु सहस्रनाम(Vishnu Sahasranamam ) का जप करने से आपको अपने भीतर की ऊर्जा को बढ़ाने में …

Read more

क्या होता है पितृदोष निवारण के उपाय और कारण ! Pitra Dosh

Pitra Dosh

पितृदोष क्या होता है : जन्म कुंडली के प्रथम, द्वितीय, चतर्थ, पंचम सप्तम नवम व दशम भावों में से किसी एक भाव पर सूर्य-राहु अथवा सूर्य-शनि का योग हो तो जातक को पितृदोष(Pitra Dosh) होता है। पितृदोष जिस भाव में होता है उसीके अनुसार ही …

Read more

सकल मनोरथों को पूर्ण करने वाली श्री खींवज माता आरती

खींवज माता

।।श्री खींवज माताआरती(कठौती)  | Khinwaj Mata Aarti।। आरती करूं मैं खींवज मां(Khinwaj Mata) की, खींवज मां की हो कुलस्वामिनी की जय जय जय हे खींवज माता, हे कुल स्वामिनी भाग्य विधाता आरती करूं मैं तो आरती करूं मैं खींवज मां की ।।1 ।। मैयाजी आओ …

Read more

गायत्री मंत्र के प्रभाव एंव अलौकिक शक्तियाँ – Gayatri Mantra in Hindi

Gayatri Mantra in Hindi

गायत्री महामंत्र सम्पूर्ण ब्रह्मांड का मूल आधार है। जब भारत में सभी गायत्री उपासना करते थे, तब भारत जगद्गुरु था, सारे विश्व का मार्गदर्शक था। जब से इसे प्रतिबंधित कर दिया गया, इस राष्ट्र के पतन-पराभव का क्रम आरंभ हो गया। इस लेख में गायत्री …

Read more

इस विधि से करे लक्ष्मी नृसिंह भगवान की पूजा ! Laxmi Narsingh Bhagwan

Narsingh Bhagwan

Narsingh Bhagwan Puja: ॐ सोममण्डलाय षोडषकलात्मने देवार्ष्यामृताय नमः (यह अर्घ्य मन्त्र है) ॐ आत्मतत्वात्मने नमः, ॐ विद्यातत्त्वात्मने नमः ॐ शिवतत्वात्मने नमः निम्नलिखित मंत्रों द्वारा अपने साथ ही मण्डल का भी विधिवत प्रोक्षण करें। फिर अक्षत फूलों सहित गायत्री मंत्र का जप करना चाहिए। Narsingh Bhagwan दशावतार …

Read more

वैवाहिक समस्याओ को दूर करता है श्री पुरुष सूक्त – Shri Sukta

Shri Sukta

अपने जीवन में सकारात्मक प्रभाव प्राप्त करने के लिए श्री पुरुष सूक्त(Shri Sukta) का पाठ करना चाहिए | पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए भी इसका पाठ करना अच्छा रहता है | इस(Shree Shuktam) पाठ से मन को शांति मिलती है | जिन लोगो के वैवाहिक …

Read more

नवग्रह शांति स्त्रोत्र और ग्रह शांति के लिए क्या करना चाहिए? ! Navgrah

navgrah

नौ ग्रह हमारे द्वारा किये गए पूर्व कृत कर्म के आधार पर रोग, शोक, और सुख, ऐश्वर्य प्रदान करते हैं। Navgrah पीड़ित व्यक्ति ग्रह के दंड को पहचान कर उक्त ग्रह की अनुकूलता हेतु उक्त ग्रह का रत्न धारण करता है तो वह सुखी बन …

Read more